Communal Harmony (जातीय सद्भाव) – Bhagat Munshi Ram – Baba Faqir Chand

मुझे छोटी आयु से यह जानने की तलाश थी मैं कौन हूं?’ इस तलाश के सिलसिले में मैंने बहुत दौड़ धूप की. सन्‌ 1911 ई. में मैंने गायत्री मन्त्र का जाप शुरू किया. कई संतों-महात्माओं से मिला. धर्म ग्रन्थों का अध्ययन किया, मगर शांति नहीं आई. अन्त में 1963 ई. में मौज मुझे परम संत परम दयाल फकीरचन्द जी महाराज, जो होशियापुर, पंजाब के रहने वाले थे, उनके चरणकमलों में ले गई. उन्होंने मुझे बताया कि इन्सान एक चेतन का बुलबुला है. मौज से ज़िन्दगी बन जाती है और मैंपना आ जाता है और देश के, क्षेत्र के, जातिवर्ग के धर्मों, पंथों, संप्रदायों और भाषाओं के प्रभाव मनुष्य के मन पर प्रभाव डालते रहते हैं. अपनी समझ को अच्छा और दूसरों की समझ को बुरा समझने लग जाते हैं और जीवन अशांत हो जाता है. समाज में भी अशांति पैदा हो जाती है.

इन प्रभावों से बचने के लिए हुजूर परम दयाल जी महाराज ने मानव जाति के लिए इस ज्ञान का अपने जीवन में अनुभव किया कि इन्सान एक चेतन का बुलबुला है. जीवन गुजारने के लिए इस नामरूप संसार में सब का आदर, सब का मान सत्कार, दूसरों की भावनाओं का विरोध न करते हुए, ‘किसी से आश्रय लो और किसी को आश्रय दोके नियमों पर चलते हुए जीवन यात्रा पूरी करें. इस तरह घर-घर मिला कर ही देश बन जाता है, देश में भी शांति आ सकती है. (भगत मुंशीराम, छुआछूत कब और क्यों से)

MEGHnet

3 comments:

deepak saini said…

इन्सान एक चेतन का बुलबुला है. किसी से आश्रय लो और किसी को आश्रय दो बहुत अच्छी सीख

केवल राम said…

बहुत अच्छी सीख दे गयी आपकी पोस्ट …शुक्रिया

PN Subramanian said…

मेरी मान्यता है की महान आत्माओं या फिर कहें अपने यहाँ जितने भी महापुरुष हुए है वे किसी जाति, धर्म आदि के बंधन से कोसों दूर हैं. वाल्मिकी जी को लें, तुलसीदास सहित सभी क्षेत्रीय लोगों ने उनका अनुसरण करते हुए अपनी रचनाएँ प्रस्तुत की हैं जो उनके क्षेत्र के लोगों के समझ में आ जाये. बाबा फकीरचंद जी को नमन.
Advertisements

About meghnet

Born on January, 13, 1951. I love my community and country.
This entry was posted in बाबा फकीर चंद, भगत मुंशीराम. Bookmark the permalink.

One Response to Communal Harmony (जातीय सद्भाव) – Bhagat Munshi Ram – Baba Faqir Chand

  1. चेतन का बुलबुला ..सार्थक पोस्ट ..शुभकामनायें

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s