जादू-टोना, जंतर-मंतर

स्याने लोग जानते हैं कि जब किसी मजबूर का किसी परिस्थिति पर वश नहीं चलता और वह बहुत परेशानी में आ जाता है तो वह छू-मंतर…. गिलि…. गिलि…. गिलि…. करने लगता है.

हम भी बहुत मजबूरी में आ चुके हैं. हमें बार-बार सताया जा रहा है. कोई हमें सताए क्यों. हम चैन से रहने के आदी हैं. जिन्हें जादू-टोने पर भरोसा नहीं था वे जुआ तक हारते रहे. हम सियासत के जुए में हार जाएँ तो हम हम न हुए तू हो गए.
अण्णा, बड़े भाई!! तुमने बहुत सताया. हम मजबूर हुए. हम ने परम बाबा श्रीश्रीश्रीधारा144 को बुला लिया है जिस का परम मंत्र ही यही है गिलि….गिलि….गिलि….छूजंतर-मंतर छू. अब बैठना वहाँ हमें सताने को !!

अभी टेढ़ा किया है….बाद में उलटा भी कर देंगे….गिलि..गिलि..गिलि…..

Key words: Anna Hazare, Jantar Mantar, black magic, 144, श्रीश्रीश्री

About meghnet

Born on January, 13, 1951. I love my community and country.
This entry was posted in Anna Hazare, Jantar Mantar. Bookmark the permalink.

18 Responses to जादू-टोना, जंतर-मंतर

  1. Apanatva says:

    Jadoo touna ?
    hoga vahee
    jo high command
    chahe hona………..
    😉

  2. इस देश का सारा काम ‘जंतर-मंतर‘ से ही तो चल रहा है।

  3. Bhushan says:

    @ mahendra verma. :))

  4. ‘छू-मंतर…. गिलि…. गिलि…. गिलि….’ बहुत सुन्दर .

  5. Sunil Kumar says:

    वर्मा जी से सहमत …

  6. बहुत बढ़िया सर।
    ———–
    कल 01/08/2011 को आपकी एक पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

  7. कल 02/08/2011 को आपकी एक पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!
    माफ कीजयेगा पिछले कमेन्ट मे तारीख गलत हो गयी थी

  8. daanish says:

    अब
    'जंतर मंतर'
    की जिद छोड़ दी गयी है
    'तंतर'
    काम कर गया लगता है
    जय हो !!

  9. Babli says:

    बहुत बढ़िया लगा! अत्यंत सुन्दर!

  10. सदा says:

    ‘छू-मंतर…. गिलि…. गिलि…. गिलि… वाह …बहुत खूब ।

  11. Gilley …. Gilley …. Gilley ….

  12. बहुत ही बढ़िया जादू मंतर …भूषण जी
    वर्मा जी से सहमत पूरी तरह सहमत

  13. ZEAL says:

    देश का दुभाग्य यही है की यहाँ हर समस्या से भागते हैं लोग , जिम्मेदारी नहीं लेते और निराश होने बाद खुद को जादू-टोने की राह में समर्पित कर देते हैं . निराशा व्यक्ति का अंत है ! उसके बाद चाहे गिली-गिली हो अथवा अंतिम संस्कार…दोनों एक सामान है.

  14. Babli says:

    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

  15. nitinvinzoda says:

    Thanks Dear Bhushanji, for good informative post.
    The Mamaidev said that you do not believed in blind faith like Jadu tona and Bhuva and others, he said in his vedas that god is inside you,you do not wonder around blind faith,
    Mamai's Vedas:–Molla, morana,mamai che anv na manja,na rebari ne Rasul. ghat me vetho Ganesha ai biya kula pujyo PEER,
    Friend, According to advise i transfered my all post of weebly of matang to my new blogspot,mamaidev and Buddhism,,pl visit Blog and give guidences, weebly was asking premium and money,so that blog will not appear more on weebly.
    Thank you,

  16. गिली गिली छू ..छुआछूत फैलाने वाली है.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s