Monthly Archives: November 2011

Karunanidhi, Kanimozhi and Hindi – करुणानिधि, कनिमोड़ी और हिंदी

एक बार चेन्नई में हिंदी अधिकारियों का सम्मेलन हुआ. समापन सत्र एक तमिल भाषी डीआईजी ने लिया. उसकी धाराप्रवाह हिंदी से हिंदी अधिकारी अवाक् रह गए. सत्र समाप्ति पर एक ने वक्ता से पूछा, “सर आपने इतनी बढ़िया हिंदी कहाँ सीखी”. … Continue reading

Posted in रचनात्मक, Hindi Officer | 18 Comments

Real mind – हाले दिल

हुआ यों कि मैंने इन दिनों अपनी पुरानी पोस्ट्स पढ़नी शुरू कीं. उनमें से कुछ ऐसी थीं जिन्हें अब मैं पोस्ट कम और अपने मन के लक्षण- सभ्य भाषा में ‘मन का दर्पण’, अधिक मानता हूँ. देखा कि अचानक मैंने … Continue reading

Posted in रचनात्मक | 16 Comments

Anna Hazare and the truth about liquor – अन्ना हज़ारे और शराब की सच्चाई

किसी चैनल ने अन्ना हज़ारे की 30 वर्ष पुरानी पुस्तक को उद्धृत करके शराबियों के आहातों में भय छोड़ दिया और कह दिया कि तालिबान अन्ना हज़ारे डंडा ले कर आ गए हैं. स्वयं दंड देंगे. पियक्कड़ों का प्रवक्ता कैमरे … Continue reading

Posted in रचनात्मक | 20 Comments

Three popular jokes from the cremation ground – तीन लोकप्रिय श्मशानी चुटकुले

An old uncle had a habit of pinching on the cheeks of young girls on the occasion of marriages and used to say, “You next.” One of the girls felt bad about it. She soon got the chance to take … Continue reading

Posted in रचनात्मक | 16 Comments

Sure treatment – शर्तिया इलाज

शराब से जिगर खराब होता है, यह सभी जानते हैं. मुझे एक जानकार ने बताया है कि जिगर के लिए दी जाने वाली दवाओं का एक साइड इफ़ेक्ट यह है कि ये गुर्दों को ख़राब कर सकती हैं, यदि मरीज़ पर उनके … Continue reading

Posted in Antibiotics, रचनात्मक, steroids | 13 Comments

What color suits you – रंग के अनुसार कटेगा खाँचा

बचपन में लकड़ी से बने भारत के एक खाँचे में राज्यों को फिट करने का खेल मैं बड़े शौक से खेलता था. यूपी, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, आंध्रप्रदेश, राजस्थान को फिट करने में बड़ी आसानी होती थी. इन्हीं से देश का खाँचा … Continue reading

Posted in रचनात्मक | 10 Comments

Micro-macro economics – defiant definitions – सूक्ष्म-स्थूल अर्थशास्त्र – धृष्ट परिभाषाएँ

भारत में कई अच्छे वित्तमंत्री हुए हैं जिनमें से कई अच्छे अर्थशास्त्री नहीं थे. इसका उलटा भी समझ लीजिए. कई शास्त्रीय अर्थशास्त्रियों की किस्मत में विपक्ष में बैठना ही लिखा था. प्रतिवर्ष वित्त बजट पेश होने के बाद विपक्ष का … Continue reading

Posted in रचनात्मक | 23 Comments