Monthly Archives: December 2011

Horror!! – डर!!

मनोरोग चिकित्सक बताते हैं कि व्यक्ति के मस्तिष्क में डर को सहन करने वाले रसायन होते हैं जो व्यक्ति के स्वास्थ्य को बचाते हैं और आघात सहने की क्षमता प्रदान करते हैं. जब ये रसायन किसी कारण से कम होते … Continue reading

Posted in डर, रचनात्मक, Horror | 18 Comments

Train from Pakistan (Jassadan Wali Train)- ‘जस्सड़ां वाली गाड़ी’- अनकही कथा

(Revised) 1947 में भारत विभाजन के बाद पाकिस्तान से विस्थापित होकर भारत आए लोग एक रेलगाड़ी का नाम बहुत लेते हैं- ‘जस्सड़ां वाली गड्डी.’इस गाड़ी में सवार लगभग सभी लोगों को मार डाला गया था. इसकी प्रतिक्रिया में लाशों से भरी दो … Continue reading

Posted in रचनात्मक | 26 Comments

Classroom of a hospital – अस्पताल का क्लासरूम

वैसे तो अस्पताल की अपनी एक दहशत होती है. लेकिन बड़े अस्पताल की दहशत बड़ी होने के साथ उस पर विश्वास भी अधिक होता है. आखिर इतनी बड़ी बिल्डिंग ऐसे थोड़े न बन जाती है. कुछ तो होगा वहाँ. पिछले … Continue reading

Posted in Antibiotics, रचनात्मक | 4 Comments

O’ smileys – ओ! स्माइलियो

मेरी प्यारी स्माइलियो, खुश रहो, आबाद रहो. मेरे आलेखों को नया आयाम देने के लिए आभार. मैं तुम्हें बना सका इसकी खुशी है. अभी तक किसी ने तुम्हें पहचाना नहीं 😦     उम्मीद है तुम्हें पहचान मिलेगी  :))   MEGHnet

Posted in रचनात्मक, smileys | 10 Comments

Co-story of troubles – boils and cancers – कष्टों की सहकथा- फोड़े और कैंसर

पिछले दिनों परिस्थितियाँ ऐसी हो गईं थीं कि एकाध ब्लॉग तो लिखा लेकिन टिप्पणियाँ देने की यात्रा पर नहीं जा पाया. अपने एक फोड़े को झेल रहा था कि साली साहिबा को कैंसर होने की ख़बर मिली, उनका इलाज शुरू … Continue reading

Posted in रचनात्मक | 13 Comments

How much can Wikipedia be trusted – विकिपीडिया पर कितना विश्वास करें

इंटरनेट पर हम किसी विषय पर जानकारी लेना चाहें तो बहुत कुछ सामने आता है. इनमें से एक विकिपीडिया भी है जो जानकारी का बहुत बड़ा स्रोत है. हिंदी विकिपीडिया पर आलेख लिखने और संपादन का अनुभव है. कुछ हिंदी … Continue reading

Posted in रचनात्मक, विकिपीडिया | 10 Comments