Monthly Archives: February 2012

ज़रा सँभालिए अदाएँ आप की…..

Chitragupt Shrivastava चित्रगुप्त श्रीवास्तव इस उम्र तक आते-आते भजन सुनने की आदत पड़ ही गई है लेकिन ‘विविध भारती’ के भजनों के कार्यक्रम के बाद ‘भूले-बिसरे गीत’ कार्यक्रम आता है जिसके सुर कानों में पड़ते हैं तो आदतन ध्यान खिंचता … Continue reading

Posted in रचनात्मक, Chitagupta, Lata Mangeshkar, Mahinder Kapoor | 10 Comments

Rebirth – a variation – पुनर्जन्म (जनम-जनम) के फेरों का हेर-फेर

Rafi sang a song – “These are the rounds of rebirth” – the first impression of rebirth on my mind. At the age of 17 I was initiated in Radhasoami Mat which mentioned that rebirth was imminent at least once … Continue reading

Posted in पुनर्जन्म, रचनात्मक, Rebirth, Uncategorized | 15 Comments

Religious processions: a menace – धार्मिक जुलूस : एक मुसीबत

हाल ही में संपन्न चुनावों में एक अच्छी बात थी कि वातावरण काफी हद तक प्रदूषण से बच गया. दीवारों आदि के चेहरे पोस्टरों से बदनुमा होने से बच गए. इस बार राजनीति के भोंपुओं और लाऊडस्पीकरों की मुसीबत बहुत … Continue reading

Posted in धर्म, रचनात्मक | 11 Comments

Tweets of Big B and Yuvi – बिग बी और युवी के ट्वीट्स

वैसे तो किसी के निजी जीवन में झाँकना ठीक नहीं होता लेकिन मेरे जैसे यूँ ही से ब्लॉगर कभी चूँ-चूँ कर लेते हैं. ख़ैर. पहली चूँ..चूँ.. महानायक अमिताभ से आई. वे बार-बार दर्द से कराहते रहे लेकिन डॉक्टरी बुलेटिन में … Continue reading

Posted in Amitabh Bachchan, रचनात्मक, Romi Ranjan, Yuvraj Singh | 13 Comments

It is a matter of sovereignty – मामला संप्रभुता का है

अंतर्राष्ट्रीय मामलों का जानकार नहीं हूँ लेकिन एक स्थिति पैदा हुई है. अब पंगेबाज़ी इस्राइल ने शुरू की है और हमेशा की तरह अमेरिका उसके साथ भ्रष्ट इंस्पैक्टर की तरह खड़ा हो गया है जिसके ‘लोकतांत्रिक’ चुनावों में यहूदियों ने … Continue reading

Posted in रचनात्मक | 12 Comments

Valentine’s Day is yesterday – कल था वेलेंटाइन डे

दुनिया में कल ख़ास दिन था. कल के गुलाब सामने रखे हैं. कुछ सपने आज अलसाए-से जगे हैं. कुछ डिनर पार्टियाँ धीरे-धीरे बिस्तर से उठ रही हैं. कल उठते ही पहले भोली दिखने वाली छोटी बिटिया को फोन किया था, … Continue reading

Posted in रचनात्मक, Valentine's Day | 10 Comments

POK- The real issue – असली मुद्दा है- पाक अधिकृत कश्मीर

कुछ दिन पहले डॉ. दिव्या श्रीवास्तव ने 07-02-2012 को “कश्मीर मुद्दे” पर यह पोस्ट लिखी थी. “पाकिस्तानी प्राधानमंत्री का कहना है की 21वीं शताब्दी में युद्ध कोई विकल्प नहीं है, अतः वे काश्मीर मुद्दे का हल बात-चीत तथा बुद्धिमानी से … Continue reading

Posted in Divya | 11 Comments