Monthly Archives: March 2012

Waging war against nation- diluting definition – टलना फाँसी का बनाम राष्ट्र पर हमला

कानून का विशेषज्ञ नहीं हूँ लेकिन भारत के एक नागरिक को राष्ट्र पर हमले की परिभाषा के बारे में जो जानना चाहिए उसके बारे में जो जानता हूँ उसके आधार पर कुछ कहने का अधिकार है. किसी सरकारी सेवक या … Continue reading

Posted in आतंकवाद, धर्म, राजनीति, लोकतंत्र, Uncategorized | 22 Comments

Respected sir/madan – आदरणीय महोदय/महोदया

छुट्टी हेतु आवेदन जयहिंद सर जी. पिछले दिनों आसपास के हालात से बहुत टेंशन हो गई है. जनरल को रिश्वत की पेशकश, सेनाओं के अंदर के हालात पर ब्यानबाज़ियों, टीम अन्ना की बदज़ुबानियों, संसद के तीखे तेवरों, मुख्य मंत्री के … Continue reading

Posted in रचनात्मक | 4 Comments

A letter to Prime Minister – प्रधान मंत्री जी को एक पत्र

Sorry sir! No toilets in Indian buses! प्रधान मंत्री जी परनाम, अनपढ हूँ. लिखना न आवे. बस समझ लेना. बस का सफ़र. आम जनता कष्ट में. सफर के दौरान हाज़त. लोग क्या करें. ड्राइवर-क्लीनर भैंस. बीन क्या बजाएँ. वे वहीं … Continue reading

Posted in रचनात्मक, Health Minister, Toilets in Indian buses, Transport Minister | 12 Comments

Birth anniversary of Ashoka the Great-2 – सम्राट अशोक की जयंती/जन्मदिवस-2

भारत का बच्चा-बच्चा जानता है कि भारत में एक यशस्वी सम्राट हुआ है जिस का नाम अशोक था. पूरी दुनिया उसे अशोक महान के नाम से जानती है. आप भी जानते हैं मैं भी जानता हूँ. क्या हम जानते हैं … Continue reading

Posted in Anniversary, Ashoka the great, रचनात्मक, Kol, Koli, Kori | 11 Comments

Animal love and my experiment with eggs – पशु-प्रेम और अंडे पर मेरा प्रयोग

(शाकाहारी इस पोस्ट को निश्चिंत हो कर खाएँ. इस पर ‘रचनात्मक’ का लेबल लगा है.) मैं बाज़ार से खरीद कर क्या खा रहा हूँ मुझे स्वयं भरोसा नहीं. चलो, यह मेरी मर्ज़ी है कि जो चाहूँ सो पेट में फेंक … Continue reading

Posted in रचनात्मक | 7 Comments

Yaksha Prashna-Yaksha Answer – यक्ष प्रश्न – यक्ष उत्तर

यक्ष के द्वारा पूछे गए प्रश्नों में एक प्रश्न था कि किसे त्याग देने से मनुष्य प्रिय बनता है. युधिष्ठिर ने इसका उत्तर दिया था कि अहं से पैदा हुए गर्व को त्यागने से मनुष्य प्रिय बनता है. तब से … Continue reading

Posted in पांडव, महाभारत, यक्ष, युधिष्ठिर, रचनात्मक | 14 Comments

UP elections-2012 – Untold points – यूपी चुनाव-2012 – अनकहे बिंदु

देखा गया है कि कुछ वर्ष पहले तक चुनाव प्रत्याशी और नेता भाई पूरी धूर्तता के साथ घोषणा करते थे कि हम चुनाव में जाति और धर्म को महत्व नहीं देते और न ही इनमें विश्वास करते हैं. लेकिन चुनाव … Continue reading

Posted in UP elections 2012 | 21 Comments