Monthly Archives: October 2012

Let us play fire – आओ ‘ठायँ-ठायँ’ खेलें

कंचे, गिल्ली डंडे और हाकी में बचपन खो दिया. छि-छि. बचपन बेकार गया. कुछ नहीं खेला. आपको नए खेल ‘ठायँ-ठायँ’ से परिचित कराना आवश्यक हो गया है. आजकल गली-मोहल्ले में कोई वारदात-खेल-तमाशा हो तो वहाँ से गोली चलने की आवाज़ (ख़बर) … Continue reading

Posted in Peace | 8 Comments

Martyrdom Day of Mahishasur – महिषासुर का शहीदी दिवस

Mahishasur the King Everything changes with time. As a child, I thought that Asuras and Rakshasas had been very bad to us. With the increase of knowledge I came to know that in fact we were the Asuras and Rakshasas … Continue reading

Posted in Mulnivasi | 19 Comments

अब्दुल हमीद खान – सच-सच बताइए सर !!!

(ईमेल से प्राप्त अब्दुल हमीद खान (हैदराबाद) की कविता)सच-सच बताइए सर !!!निस्संदेह यह सच है सर,आप लखपति,करोड़पति, अरबपति और खरबपति हैं, नेता हैं, अभिनेता हैं,चेयरमैन हैं, एमडी हैं,प्रोफ़ेसर हैं, ब्यूरोक्रैट हैंऔर…और…..औरउद्योगपति भी हैं ! आपका देश और दुनिया केगिनती के लोगों … Continue reading

Posted in कविता | 8 Comments

BAMCEF-2 – बामसेफ-2

कल 21-10-2012 को बामसेफ चंडीगढ़ यूनिट ने कॉमनवेल्थ यूथ प्रोग्राम, एशिया सेंटर, सैक्टर-12 के हाल में एक दिवसीय ‘इतिहासात्मक और विचारधारात्मक प्रशिक्षण काडर कैंप’ (Historical and Ideological Training Cadre Camp) का आयोजन किया. इसमें भाग लेने का मौका मिला. इस प्रशिक्षण कैंप में … Continue reading

Posted in BAMCEF, Dalit, Shudra | 4 Comments

Ekta Parishad leads Indian aboriginals to Delhi– एकता परिषद के नेतृत्व में आदिवासियों का दिल्ली कूच – 2012

भारत के आदिवासियों/मूलनिवासियों का इस देश की ज़मीन पर अधिकार सदियों से क्रमवार तरीके से समाप्त कर दिया गया है. आज भी उनके जंगल, जल और ज़मीन पर कोई भी ठेकेदार अधिकार जमा लेता है. ठेकेदार को पुलिस, नौकरशाही और मीडिया का … Continue reading

Posted in Ekta Parishad, Mulnivasi | 3 Comments

Ravindranath Thakur belonged to Shudra caste – रवींद्रनाथ ठाकुर शूद्र जाति से थे

कुछ दिन पहले ही अपने एक ब्लॉग पर हरिचंद ठाकुर के मतुआ आंदोलन पर एक पोस्ट लिखी थी. हरिचंद ठाकुर की खोज करते हुए एक ऐसी जानकारी मिली जो मेरे लिए नई थी. कई साल पहले पढ़ा था कि रवींद्रनाथ टैगोर को … Continue reading

Posted in Dalit communities, Shudra | 3 Comments

Time to eat away – ‘खाओ-खाओ’ का ज़माना है

बाकी तो पता नहीं परंतु रॉबर्ट वाड्रा के मामले से ज़मीनें खाने के अंदाज़ की तस्वीरें बहुत साफ़ दिखने लगी हैं. कल अशोक खेमका, आईएएस का प्रकरण मीडिया पर छाया रहा. मैंने भी ‘खोजी ब्लॉगकारिता’ 😉 के तहत अपने मित्रों … Continue reading

Posted in Corruption | 6 Comments