This rally was more than a rally – यह रैली, रैली से अधिक थी

लखनऊ में ओबीसी, एससी और एसटी मिल कर आरक्षण समर्थक रैली कर रहे हैं. मेरी दृष्टि से यह भविष्य के अंतर्जातीय सहयोग की पहली झलक है.

काफी समय से एक सपना है कि कश्मीर से केरल तक और महाराष्ट्र से मेघालय तक मेघ ऋषि की संतानें आपसी भ्रातृत्व को पहचाने और राजनीतिक एकता के लिए देश भर के ओबीसी, एससी और एसटी एक मंच पर आ जाएँ
 
पिछले दिनों ब्राह्मणवादी न्यायव्यवस्था ने आरक्षण व्यवस्था की भावना को फिर से चोट पहुँचाई है जिसने यूपी के पिछड़े वर्ग के युवाओं को भड़काया है. आरक्षण जैसे मुद्दों को लेकर बहुत लंबा आंदोलन नहीं चलाया जा सकता, हाँ समयसमय पर उसके साथ अन्य मुद्दे (धार्मिक और सांस्कृतिक, महँगी शिक्षा, आर्थिक विकास, ग़रीब समूहों का समन्वित संघर्ष आदि) जुड़ते जाते हैं और सत्ता का सपना आकार ग्रहण करने लगता है. राजनीतिक बेचैनी यह कार्य करती है.
इलाहाबाद से शुरू हो कर लखनऊ पहुँचा यह आंदोलन अपने साथ विशिष्ट लक्षण ले कर आया है जो स्वयं आलोकित हैं. इनके लिए नीचे दिए यूट्यूब लिंक को अवश्य देखें.
 
ये फोटो जन संस्करणकी यूट्यूब पर लोडिड वीडियोके साभार हैं.

 

 MEGHnet

Advertisements

About meghnet

Born on January, 13, 1951. I love my community and country.
This entry was posted in Reservation. Bookmark the permalink.

2 Responses to This rally was more than a rally – यह रैली, रैली से अधिक थी

  1. आवाज उठनी ही चाहिए..

  2. वर्गीकरण कहां तक उचित है ये तो पता नहीं … पर सदियों से दबाए गए लोगों को आरक्षण जरूर मिलना चाहिए …

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s