Monthly Archives: September 2013

Human point of view of an Asur (Asura) – असुर का मानवीय दृष्टिकोण

यह पोस्ट रिकार्ड के लिए रखी गई है. प्रेस-कॉन्फ्रेंस/28 सितंबर 2013 सुषमा असुर ने आज झारखंडी भाषा साहित्य संस्कृति अखड़ा कार्यालय में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपील की है कि दुर्गा पूजा के नाम पर असुरों की हत्या का उत्सव … Continue reading

Posted in Asura | 1 Comment

Worship places of Megh Bhagats – मेघ भगतों के पूजा स्थल

देहुरियाँ (डेरे-डेरियों) का इतिहास- (यह आलेख डॉ. ध्यान सिंह के शोधग्रंथ के एक अंश का संपादित रूप है जिसे उनकी अनुमति से यहाँ प्रकाशित किया गया है) पंजाब और जम्मू क्षेत्र की ‘मेघ’ जाति की अधिकतर ‘देहुरियाँ’ और ‘देहुरे’ (डेरे-डेरियाँ) … Continue reading

Posted in Deries | 3 Comments

Serial ‘Budhha’ – ‘बुद्ध’ सीरियल

किसी भी टीवी चैनल का हर कोई सीरियल कुछ कहता है. डीडी नेशनल पर रविवार को प्रातः 11.00 बजे दिखाया जा रहा सीरियल ‘बुद्धा‘भी कुछ कहता है. जैसी कि उम्मीद थी यह मनोरंजक (रोचक, भयानक और अनहोनी कहानियों से भरे)तरीके … Continue reading

Posted in Black Buddha | 4 Comments

Religious and Caste Riots – धार्मिक और जातीय दंगे

मुलायम सिंह ने कहा कि मुज़फ़्फ़रपुर में हुए दंगे धार्मिक नहीं जातीय थे. कुछ सवाल मन में उठे हैं :- 1. क्या जातीय दंगे कहने से उनकी गंभीरता कम हो जाती है?2. 90 प्रतिशत मुसलमान जातिवाद से तंग आकर धर्मांतरण … Continue reading

Posted in Dalit, Muslim | 3 Comments

Messengers of Death – जमदूत

आम आदमी सोचा था कि देश में संभावित गृहयुद्ध (Civil war) के बारे में लिखूँ जिसकी चेतावनी प्रशांत भूषण ने एक पत्रकार सम्मेलन में दी थी……..जो बन गई थी ‘कल्पनाओं को चीरती हुई सनसनी……’ फिर विचार आया कि देश में … Continue reading

Posted in रचनात्मक | 4 Comments

Talk from a distance Your Holiness! – दूर से बात करो महात्मा जी !

टीवी पर आसाराम का केस सुनते–सुनते कान पक गए हैं. इसे कबीर के दो शब्दों में समेटा जा सकता है–                                   दास कबीर हर के गुन गावे, बाहर कोऊ पार न पावे                                   गुरु की करनी गुरु जाएगा, चेले की … Continue reading

Posted in Religion | 10 Comments