Category Archives: इतिहास

Ancient History of Meghs – मेघों का पुराना इतिहास

पुराना इतिहास मेरे प्यारे मेघ भाई, बहनों और बच्चो! अब तक जो बातें मैंने लिखी हैं, जिसके पढ़ने में, जानने में और सोचने में आपका पर्याप्त समय लग गया, इसलिए लिखी हैं कि आपको विश्वास हो जाए कि आपके अन्दर जो यह इच्छा है … Continue reading

Posted in इतिहास, भगत मुंशीराम, मेघमाला, Origins | 2 Comments

The first Megh – आदि मेघ

आदि मेघ जिन भाई बहनों ने इस पुस्तक का पहला प्रकरण पढ़ लिया, सम्भव है उनके अन्दर आश्चर्य उत्पन्न हो कि बात क्या थी और मेघ शब्द की परिभाषा क्या की गई. प्रश्न तो यह है कि आदि मेघ अर्थात्‌ जो … Continue reading

Posted in इतिहास, भगत मुंशीराम, मेघमाला, Origins | Leave a comment

From Megh -Mala – मेघ-माला से

पाकिस्तान में हमारे गाँव के पास एक ढल्लेवाली गाँव था. वहाँ के ब्राह्मणों, हिन्दु जाटों और महाजनों ने चमारों और हरिजनों या सफाई करने वालों को तंग किया, और गाँव से निकल जाने के लिए कहा. उन्होंने स्यालकोट शहर में जाकर जिला … Continue reading

Posted in इतिहास, भगत मुंशीराम, मेघमाला | Leave a comment

Meghs and Cause of Caste differentiation – जाति भेद का मूल कारण और मेघ

जाति भेद का मूल कारण इस संसार में जो भी जीव-जन्तु हैं, कई रूप, रंग, वर्ण रखते हैं. उनके समूह को ही जाति कहा गया है. जल, थल, आकाश के जीव अपनी-अपनी जातियाँ रखते हैं. पशु-पक्षियों और जल में रहने वाले मच्छ, कच्छ, व्हेल मछली जैसी जातियाँ … Continue reading

Posted in इतिहास, भगत मुंशीराम, मेघमाला, Origins | Leave a comment

Koli, Kori, Kol – Aboriginal tribes of India

(इस पोस्ट का हिंदी पाठ)  An unknown friend Mr. Pritam Bhagat from Pathankot told me over mobile that mother of Buddha was a Koli (Kori). It interested me. Internet helped me in going to an article regarding Koli community. The … Continue reading

Posted in इतिहास, कोरी, कोली, गुलामी, भील, मीणा, मेघवंश, Bhil, History, Kol, Koli, Kori, Meena, Meghvansh, Origins, Slavery, Valmiki | 10 Comments

Human Rights Day special – (Jotiba Phule) – मानवाधिकार दिवस पर विशेष- महात्मा जोतीबा फुले

Mahatma Jotiba Phule (Photo Wikipedia) महात्मा जोतीबा फुले को ‘सत्य शोधक समाज’ (Satya Shodhak Samaj) की स्थापना, महिलाओं के अधिकारों (Women Rights) के लिए संघर्ष और श्रमिक जागृति के लिए किए गए कार्य के लिए जाना जाता है. उनकी पुस्तक … Continue reading

Posted in अन्य ब्लॉगों से, इतिहास, दासता, From other blogs, Slavery, Uncategorized | 3 Comments

1500 Bhil Meena sacrificed their lives for independence – स्वतंत्रता के लिए 1500 भील मीणा हुए थे शहीद

Govind Guru (This post is based upon an article published in a magazine ‘Meena Bharati’, September-October 2007 issue. I came to know about it through my colleague Vasundhara Meena. I am grateful to her.) Govind Guru (Govind Guru) was born … Continue reading

Posted in इतिहास, भील, मीणा | 8 Comments