Category Archives: एकता

Megh Churn-3 – मेघ मथनी (मधाणी)-3

चाटी में रखा धर्म बड़ीईईईई मुश्किल है. मिस्टर मेघ से बात करना ख़तरे से ख़ाली नहीं. वे हमेशा ज़मीनी बात कहें यह ज़रूरी नहीं लेकिन वे कड़ुवी बातें कहेंगे यह तय है. इस बार जब वे भार्गव कैंप (मेघ नगर) … Continue reading

Posted in एकता, रचनात्मक, Megh Churn, Religion | Leave a comment

मेघ किस …इयत के हैं

पंजाब के मेघ बच्चे पंजाबियत का गर्व करते हैं. इसी प्रकार जम्मू-कश्मीरियत या डोगरियत का भी वे दम भरते हैं. राजस्थान में वे राजस्थानियत के हो रहे हैं और गुजरात में गुजरातियत के. मैं इस प्रवृत्ति या आदत का पक्ष … Continue reading

Posted in एकता, Unity | Leave a comment

Why there is no unity in Megh community-1 (Indian System of Slavery and Meghvansh) – मेघवंश समुदाय में एकता क्यों नहीं होती-1- भारतीय दास प्रणाली और मेघवंश

प्रतिदिन यह प्रश्न पूछा जाता है कि मेघवंशियों में एकता क्यों नहीं होती. इस प्रश्न की गंभीरता का रंग अत्यंत काला है जिसे रोशनी की ज़रूरत है. यदि मेघवंशियों का आधुनिक इतिहास लिखा जाए तो उसमें एक वाक्य अवश्य लिखा … Continue reading

Posted in एकता, गुलामी, मेघ, मेघवंश, Meghvansh, Origins | 1 Comment

Why Megh community does not unite-2 – मेघ समुदाय में एकता क्यों नहीं होती-2

हाल ही में एक शहर में मेघ समुदाय ने शहीद-ए-आज़म भगत सिंह के जन्मदिन पर एक कार्यक्रम का आयोजन किया. आजोजन सफल रहा. अधिक जानकारी लेने के लिए आयोजकों और मध्यम स्तर के तथा नए (युवा) नेताओं से बात की … Continue reading

Posted in एकता, मेघ | Leave a comment

Kabir Mandir and Arya Samajist thinking – कबीर मंदिर और आर्यसमाजी विचारधारा

पिछले दिनों एक मेघ सज्ज्न की तीमारदारी के दौरान उनके पास बैठने का मौका मिला. बूढ़े मेघ अभी कबीर मंदिर का सपना भुला नहीं पाए हैं. मैंने कुरेदा तो एक तस्वीर निकली जो आपके सामने रख रहा हूँ. पंजाब सरकार … Continue reading

Posted in एकता, कबीर मंदिर, मेघ और आर्यसमाज | Leave a comment

Kabir Mandir and Megh Bhagat Aryasmajis

पिछले दिनों एक मेघ सज्ज्न की तीमारदारी के दौरान उनके पास बैठने का मौका मिला. बूढ़े मेघ अभी कबीर मंदिर का सपना भुला नहीं पाए हैं. मैंने कुरेदा तो एक तस्वीर निकली जो आपके सामने रख रहा हूँ. पंजाब सरकार … Continue reading

Posted in आर्यसमाज, एकता, कबीर मंदिर | 3 Comments