Category Archives: प्रह्लाद

What happened to Bhakta Prahlada – मेघवंशी प्रह्लाद भक्त का क्या हुआ

‘भक्त’का मूल अर्थ है जो अलग हो चुका है. किससे अलग हुआ यह संदर्भ के अनुसार है. हिरण्यकश्यपु (असुर या अनार्य) के पुत्र प्रह्लाद को भक्त के तौर पर बहुत महिमा मंडित किया गया है. भारतीय पौराणिक कथाओं (Indian Mythology)में … Continue reading

Posted in पौराणिक संकेत, प्रह्लाद | 16 Comments