Category Archives: महाकाव्य

Definition of epic- a democratic squabble – महाकाव्य की परिभाषा – एक लोकतांत्रिक रार

जयशंकर प्रसाद की ‘कामायनी’ पर एक आलेख पढ़ा जिसमें महाकाव्य के लक्षणों का उल्लेख था. लिखा था कि महाकाव्य का प्रारंभ ‘ह’ से नहीं होना चाहिए. लेकिन कामायनी की शुरूआत ही यों है- “हिमगिरि के उत्तुंग शिखर पर बैठ शिला … Continue reading

Posted in महाकाव्य, रचनात्मक | 11 Comments