Category Archives: लोकतंत्र

New face of casteism – जातिवाद का नया चेहरा

इस समस्या पर हम जब भी सोचते हैं, आशंकाओं के साथ सोचते हैं. यदि हम कहें कि जातिपाति जल्दी समाप्त होने वाली है तो ऐसा नहीं है. हमारी वर्तमान शासन व्यवस्था सदियों से मनुस्मृति से संचालित रही है. उसके प्रावधानों का … Continue reading

Posted in लोकतंत्र, Democracy, Freedom, Privatization | Leave a comment

BJP and Megh – भाजपा और मेघ

पिछले 65 वर्षों से मेघवंशी कांग्रेस को माँ मान कर उसके चरणों में लोटते रहे हैं. अंग्रेज़ों से सत्ता हस्तांतरित होकर कांग्रेसियों के पास आने के कारण और उस समय कांग्रेस का सशक्त विकल्प न होने के कारण कोई अन्य … Continue reading

Posted in मेघ, मेघवंश, राजनीति, लोकतंत्र, BJP, Megh Politicians, Meghvansh | 8 Comments

Waging war against nation- diluting definition – टलना फाँसी का बनाम राष्ट्र पर हमला

कानून का विशेषज्ञ नहीं हूँ लेकिन भारत के एक नागरिक को राष्ट्र पर हमले की परिभाषा के बारे में जो जानना चाहिए उसके बारे में जो जानता हूँ उसके आधार पर कुछ कहने का अधिकार है. किसी सरकारी सेवक या … Continue reading

Posted in आतंकवाद, धर्म, राजनीति, लोकतंत्र, Uncategorized | 22 Comments