Category Archives: श्रीलाल शुक्ल

Raag Darbari – राग दरबारी

इस जीवन-राग को लेकर कई अंतर्विरोध मेरे ज़ेहन में हैं. मैंने ख़ुद से रागदरबारी कभी नहीं गाया. संभव है इसमें निबद्ध कोई फिल्मी गीत मुँह से निकल गया हो.  नौकरी के दौरान राजनीतिज्ञों या बड़े अफ़सरों के सामने कोई महत्वपूर्ण … Continue reading

Posted in रचनात्मक, राग, श्रीलाल शुक्ल, Raag Darbari, Raaga | 8 Comments