Category Archives: Lata Mangeshkar

ज़रा सँभालिए अदाएँ आप की…..

Chitragupt Shrivastava चित्रगुप्त श्रीवास्तव इस उम्र तक आते-आते भजन सुनने की आदत पड़ ही गई है लेकिन ‘विविध भारती’ के भजनों के कार्यक्रम के बाद ‘भूले-बिसरे गीत’ कार्यक्रम आता है जिसके सुर कानों में पड़ते हैं तो आदतन ध्यान खिंचता … Continue reading

Posted in रचनात्मक, Chitagupta, Lata Mangeshkar, Mahinder Kapoor | 10 Comments