Category Archives: Megh Bhagats

Tulsidas knew the art of loving his people – तुलसीदास अपने समुदाय से प्रेम करना जानते थे

(1) कक्षाओं में तुलसीदास कक्षाओं को पढ़ाते हुए डॉ. गोविंदनाथ राजगुरु कहा करते थे कि तुलसीदास कवि बहुत अच्छे हैं लेकिन थिंकर (चिंतक) के तौर पर बेकार हैं. थिंकर के तौर पर कबीर बेमिसाल हैं. डॉ. वीरेंद्र मेंहदीरत्ता कहा करते … Continue reading

Posted in Megh Bhagats, Tulsidas | 16 Comments

All India Satguru Kabir Sabha (1958) – आल इंडिया सत्गुरु कबीर सभा – (1958)

कल 03-08-2012 को आर्य समाज मंदिर, सैक्टर-16, चंडीगढ़ में श्रीमती तारा देवी की रस्म क्रिया के बाद भगत प्रेम चंद जी ने एक स्मारिका (Souvenir/सुवेनेयर – 2012-13) मुझे दी.  ‘आल इंडिया सत्गुरु कबीर सभा (1958), मेन बाज़ार, भार्गव नगर, जालंधर’ … Continue reading

Posted in AISKS, Bhagats, Kabir, Kabirpanthi, Megh, Megh Bhagats | Leave a comment

Gotras of Megh Bhagats – मेघ भगतों के गोत्र

डॉ. ध्यान सिंह, पीएचडी डॉ. ध्यान सिंह का शोधग्रंथ कई मायनों में उपयोगी है. इसमें मेघ भगतों के गोत्रों को भी समेकित किया गया है. इस विषय में मुझे कुछ जानकारी तो थी लेकिन डॉ. सिंह द्वारा तैयार गोत्रों की … Continue reading

Posted in Dr. Dhian Singh, Gotras, Megh Bhagats | Leave a comment

Megh/Megh Bhagat : Known history

MEGHnetब्लॉग पर मैंने दलितों के इतिहास से संबंधित आलेख (चिट्ठे) लिखे हैं जो पुस्तकों और इंटरनेट से उपलब्ध सामग्री के आधार पर हैं. ये इतिहास नहीं हैं परंतु कई पौराणिक और आधुनिक सूत्रों को समझने तथा उन्हें एक जगह एकत्रित … Continue reading

Posted in History, Megh Bhagats | Leave a comment