Category Archives: Meghvansh

History of Meghwals – मेघवाल समाज का गौरवशाली इतिहास

समीक्षा नोट – पुस्तक के अग्रेषण पत्र पर आधारित भारत का अधिकतर लिखित इतिहास झूठ का पुलिंदा है जिसे धर्म के ठेकेदारों और राजा रजवाड़ों के चाटुकारों ने गुणगान के रूप में लिखा है. इसमें आज की शूद्र जातियों के … Continue reading

Posted in Meghvansh | 4 Comments

Unity of SCs, STs and OBCs – अ.जा., अ.ज.जा. और पिछड़ी जातियों की एकता

कई विद्वानों ने इस विषय पर विचार-विमर्ष किया है विशेषकर ‘बहुजन हिताय’ दर्शन के तहत जिसका बहुत महत्व है. मैंने भी अपने चिट्ठों में इस विचार-धारा के समर्थन में लिखा है. लेकिन जब समाज की व्यावहारिक स्थिति की बात आती है तो … Continue reading

Posted in Meghvansh, OBCs, SCs, STs, Unity | Leave a comment

Lost brother of Meghvanshis – Banjara (Gypsies, Roma) community – मेघवंशियों का गुमनाम बिरादर – बंजारा (जिप्सी, रोमा) समुदाय

ऐसे संकेत मिले हैं कि बंजारे और ख़ानाबदोश (Gypsies and Roma) सिंधुघाटी सभ्यता की ही मानव शाखाएँ हैं. बाहरी आक्रमणों के बाद ये लोग भारत के दक्षिण में भी फैले और यूरोप में स्पेन आदि देशों में भी गए. ऐसा … Continue reading

Posted in Banjara, Gypsy, Meghvansh, Roma, Uncategorized | Leave a comment

Publications of Meghvanshis, Jaipur – मेघवंशियों के प्रकाशन, जयपुर

04 सितंबर 2012 को श्री आर.पी. सिंह, IPS ने ये प्रकाशन भेजे हैं. इनके चित्रों को यहाँ सहेज लिया है. इनमें लगभग 168 पृष्ठों की सामग्री है. ‘मेघ सेना’ विषयक अधिक जानकारी के लिए ऊपर चित्र पर क्लिक करें   … Continue reading

Posted in मेघवंश, Literature, Meghvansh | Leave a comment

BJP and Megh – भाजपा और मेघ

पिछले 65 वर्षों से मेघवंशी कांग्रेस को माँ मान कर उसके चरणों में लोटते रहे हैं. अंग्रेज़ों से सत्ता हस्तांतरित होकर कांग्रेसियों के पास आने के कारण और उस समय कांग्रेस का सशक्त विकल्प न होने के कारण कोई अन्य … Continue reading

Posted in मेघ, मेघवंश, राजनीति, लोकतंत्र, BJP, Megh Politicians, Meghvansh | 8 Comments

Lost brother of Meghvanshis – Banjara (Gypsies, Roma) community – मेघवंशियों का गुमनाम बिरादर – बंजारा (जिप्सी, रोमा) समुदाय

ऐसे संकेत मिले हैं कि बंजारे और ख़ानाबदोश (Gypsies and Roma) सिंधुघाटी सभ्यता की ही मानव शाखाएँ हैं. बाहरी आक्रमणों के बाद ये लोग भारत के दक्षिण में भी फैले और यूरोप में स्पेन आदि देशों में भी गए. ऐसा … Continue reading

Posted in Banjara, Gypsy, Meghvansh, Roma | Leave a comment

Bharatiya Shudra Sangh (BSS) – भारतीय शूद्र संघ

भारत की दलित जातियाँ अपनी परंपरागत जाति पहचान से हटने के प्रयास करती रहीं हैं. इस बात को भारत का जातिगत पूर्वाग्रह भली-भाँति जानता है. मूलतः शूद्र के नाम से जानी जाती ये जातियाँ अपनी पहचान को लेकर बहुत कसमसाहट … Continue reading

Posted in Meghvansh, Unity | 7 Comments