Category Archives: Politics

The reality of riots – दंगों का सच

दंगों का कारण कभी भी केवल धार्मिक और आर्थिक नहीं रहा. इनका संबंध सत्ता से रहा है और अब लोकतंत्र में सीधे तौर पर वोटों की गिनती के साथ है. कोशिश होती है कि दंगे कर के दलितों और दलितों … Continue reading

Posted in Politics | Leave a comment

AAP – आम आदमी पार्टी

मुलायम का तीसरा मोर्चा दलितों के समर्थन के बिना अपंग ही रहेगा क्योंकि वहाँ अन्य सहयोगी पार्टियों का नेतृत्व ब्राह्मणों के हाथों में है. जल्द ही मीडिया आम आदमी पार्टी को तीसरा मोर्चा कहने लगेगा जो ब्राह्मण–बनिया जुगलबंदी है. आम … Continue reading

Posted in Politics | Leave a comment

Indian Government ji, wake up – भारत सरकार जी, जागो

पोंटी चड्डा के मामले में मेरी नज़र केवल इस तथ्य पर अटक कर रह गई है कि उनके परिवार के कुछ सदस्यों को एक ही दिन में कई हथियारों के लाइसेंस दे दिए गए. उसके साथ ही बुलंदशहर में एक … Continue reading

Posted in Politics | 3 Comments

Indian politics – too hurried for a third front– भारतीय राजनीति- तीसरे मोर्चे के लिए हड़बड़ी

पिछले कई वर्ष से तीसरे मोर्चे की बाँग मीडिया दे रहा है लेकिन सवेरा है कि होने को नहीं आता. कांग्रेस और बीजेपी के अलावा जो भी राजनीतिक दल हैं वे स्वयं को तीसरा मोर्चा बताते हैं या तीसरा मोर्चा … Continue reading

Posted in Politics | 7 Comments

Contractor – ठेकेदार

Leader, Contractor, Bureaucrat इन दिनों कांग्रेस और भाजपा के भ्रष्टाचार संबंधी किस्सों में एक शब्द फेविकोल से चिपक गया है- ‘ठेकेदार’. चौथी कक्षा में था (उफ़! बावन साल हो गए भ्रष्टाचार की पहली सुहावनी तस्वीर देखे) जब रामपुराफूल के पी.डब्ल्यू.डी. (बी. एंड … Continue reading

Posted in Politics | 10 Comments

Political ambitions of Meghs – मेघों की राजनीतिक महत्वाकांक्षा

पंजाब में विधान सभा के चुनाव फरवरी 2012 में होने जा रहे हैं. सुना है कि इस बार कम-से-कम 10 मेघ भगत किसी पार्टी की ओर से या स्वतंत्र उम्मीदवार के तौर पर चुनाव में खड़े हो सकते हैं. देखना … Continue reading

Posted in Megh, Politics | Leave a comment

Markesh of Indian Politics – भारतीय राजनीति का मारकेश

राजीव गाँधी युवा नेता थे इसलिए उनके जीवन के बारे में भविष्यवाणियाँ करने की चाहत ज्योतिषियों को होती रहती थी, “कर दो यार! कर दो भविष्यवाणी! यह तो अपना लंबी रेस का घोड़ा है.” सर्वोत्तम गणना के साथ उनके उज्जवल … Continue reading

Posted in A. Raja, Politics, Pranav Mukherji, Rajiv Gandhi, Sonia Gandhi, Subramanian Swamy | 5 Comments