Category Archives: Spy

My spy, my pride – मेरा जासूस, मेरी नाक

जासूसी जीवन का अँधेरा पक्ष है. बड़ी खुशी है सुरजीत सिंह कि तुम रोशनी में लौट आए. मोहन लाल भास्कर पाकिस्तान में जासूस था. कोट लखपत की जेल के अँधेरे में अमानवीय यात्नाओं से तंग आ चुका मोहन जेलर को … Continue reading

Posted in रचनात्मक, Spy | 16 Comments