Category Archives: STs

Unity of SCs, STs and OBCs – अ.जा., अ.ज.जा. और पिछड़ी जातियों की एकता

कई विद्वानों ने इस विषय पर विचार-विमर्ष किया है विशेषकर ‘बहुजन हिताय’ दर्शन के तहत जिसका बहुत महत्व है. मैंने भी अपने चिट्ठों में इस विचार-धारा के समर्थन में लिखा है. लेकिन जब समाज की व्यावहारिक स्थिति की बात आती है तो … Continue reading

Posted in Meghvansh, OBCs, SCs, STs, Unity | Leave a comment