Category Archives: Tulsidas

Tulsidas knew the art of loving his people – तुलसीदास अपने समुदाय से प्रेम करना जानते थे

(1) कक्षाओं में तुलसीदास कक्षाओं को पढ़ाते हुए डॉ. गोविंदनाथ राजगुरु कहा करते थे कि तुलसीदास कवि बहुत अच्छे हैं लेकिन थिंकर (चिंतक) के तौर पर बेकार हैं. थिंकर के तौर पर कबीर बेमिसाल हैं. डॉ. वीरेंद्र मेंहदीरत्ता कहा करते … Continue reading

Posted in Megh Bhagats, Tulsidas | 16 Comments